जानें शेयर बाज़ार में निवेश करने से पूर्व किन बातों को ध्यान में रखना आवश्यक है? (Share Market Tips for Beginners)

शेयर बाज़ार वर्तमान में निवेश का एक बेहतर विकल्प बनकर सामने आया है और इसके एक महत्वपूर्ण कारण इंटरनेट की लोगों तक बढ़ती पहुँच है। शेयर मार्केट में निवेश करना वर्तमान में एक स्मार्टफोन की सहायता से मिनटों का कम बन चुका है। हम सभी भविष्य में आने वाले किसी खर्चे को ध्यान में रखते हुए निवेश करते हैं ताकि भविष्य में हमें एक उपयुक्त प्रतिफल या रिटर्न प्राप्त हो सके। इसके अतिरिक्त शेयर बाज़ार में निवेश करना निवेशक के साथ-साथ उद्योगों एवं अर्थव्यवस्था के लिए भी सकारात्मक है।

शेयर बाज़ार में लोगों की अधिक रुचि होने से नए उद्योगों अथवा कंपनियों को रकम जुटाने में आसानी होती है तथा प्राप्त धनराशि को कंपनियाँ अपने उत्पादों को बेहतर बनाने, उत्पादन बढ़ाने नई फैक्ट्रियों को स्थापित करने आदि आदि में खर्च करते हैं। उद्योगों के फलने फूलने से रोजगार में वृद्धि होती है और अंततः इसका किसी देश विशेष की अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक असर पड़ता है।

यह भी पढ़ें : सरकारी बॉन्ड क्या होते हैं? कैसे खरीदे जाते हैं तथा इनसे कैसे लाभ कमाया जाता है?

चूँकि शेयर बाज़ार के संबंध में इस बात को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता कि, यहाँ किए निवेश से लाभ एवं जोखिम दोनों जुड़े हैं अतः इसी को ध्यान में रखते हुए आज इस लेख में हम चर्चा करने जा रहे हैं शेयर बाज़ार में निवेश करने के से पहले किन महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए (Share Market Tips for Beginners) ताकि कोई निवेशक निवेश में हानि होने की संभावना को बहुत हद तक कम कर सके और शेयर बाज़ार में अपनी निवेश यात्रा की एक अच्छी शुरुआत कर सकें।

अर्थव्यवस्था एवं आर्थिक खबरों पर नज़र

यदि आप अर्थव्यवस्था में अपनी रुचि रखते हैं तो शेयर बाजार में एक कामयाब निवेशक बनना आपके लिए कुछ हद तक आसान होगा, किन्तु यदि आपकी अर्थव्यवस्था में कोई रुचि नहीं है और आप शेयर बाजार से पैसे कमाने की चाह रखते हैं तो आपको चाहिए कि, आप देश की अर्थव्यवस्था में अपनी रुचि जागृत करें।

यह भी पढ़ें : शेयर बाज़ार क्या है तथा कैसे कार्य करता है?

यहाँ अर्थव्यवस्था को अर्थशास्त्र समझने की भूल न करें, अर्थशास्त्र एक विस्तृत विषय हैं, जहाँ किसी अर्थव्यवस्था तथा उसके ढांचे, कार्यप्रणाली, प्रदर्शन, उपचार आदि का अध्ययन किया जाता है। वहीं अर्थव्यवस्था किसी देश या भौगोलिक भाग में होने वाले वस्तुओं एवं सेवाओं के उत्पादन, उपभोग, आयात, निर्यात आदि को दर्शाती है। आपको चाहिए कि आप देश से जुड़ी एवं बाज़ार को प्रभावित करने वाली सभी खबरों पर अपनी नज़र रखें। हर ख़बर पर शोध करें कि, किस खबर का किस क्षेत्र में अच्छा या बुरा प्रभाव हो सकता है।

कंपनी का बिजनेस मॉडल

जिस कंपनी में आप निवेश करने के इच्छुक हैं सर्वप्रथम उसके बिजनेस मॉडल को समझना आवश्यक है। यहाँ कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नों को आप उस कंपनी के संबंध में खुद से अथवा अपने सम्बन्धियों से पूछ सकते हैं। जैसे वह कंपनी क्या करती है? उसके उत्पादों की बाज़ार में कितनी माँग है? क्या आपको उस कंपनी के उत्पाद पसंद हैं? भविष्य में उस कंपनी के उत्पादों की माँग में वृद्धि होगी या कमी? अगर आप इन सब प्रश्नों के उत्तरों से संतुष्ट होते हैं तो आप उस कंपनी का और अधिक अध्ययन कर सकते हैं।

कंपनी के दस्तावेजों का अध्ययन

किसी कंपनी के अध्ययन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है कंपनी के दस्तावेजों का अध्ययन, जिनमें कंपनी की वार्षिक रिपोर्ट, बैलेंस शीट, तिमाही, छमाही, अथवा सालाना परिणाम, कंपनी का शेयर होल्डिंग पैटर्न आदि होते हैं। ये सभी जानकारियाँ आपको कंपनी की वेबसाइट से प्राप्त हो जाएंगी। हाँलाकि कंपनी के दस्तावेजों का अध्ययन बहुत विस्तृत विषय है, जिनमें कई महत्वपूर्ण आंकड़ों का अध्ययन भी शामिल है।

यह भी पढ़ें : सरकारी बॉन्ड क्या होते हैं तथा इनमें कैसे निवेश किया जा सकता है?

हम अपने अन्य लेख में कंपनी के दस्तावेजों एवं कई महत्वपूर्ण आंकड़ों के अध्ययन एवं उनके महत्व के बारे में विस्तार से समझेंगे। यहाँ हम इस बात पर चर्चा करेंगे कि, दस्तावेजों के अध्ययन में आपको प्रथम दृष्टया किन बातों का ध्यान रखना चाहिये।

  1. यह सुनिश्चित करें कि कंपनी पर अत्यधिक कर्ज़ न हो।
  2. कंपनी के पास अच्छा रिज़र्व अथवा जमापूँजी हो जिसे कंपनी आवश्यकता पड़ने पर उपयोग में ला सके।
  3. साल दर साल कंपनी के परिणामों में सकारात्मक परिवर्तन हो रहा हो, जिससे इस बात की पुष्टि होगी कि, कंपनी प्रति वर्ष अच्छा प्रदर्शन कर रही है।
  4. कंपनी के प्रमोटरों के पास कंपनी के 40% से आधिक शेयर हों। प्रमोटर यानी कंपनी के मालिक उनके पास अधिक मात्रा में अपनी कंपनी के शेयर होना इस बात को दर्शाता है कि, वे कंपनी के प्रति महत्वाकांक्षी हैं।
  5. प्रमोटरों के पास जो शेयर हैं वो गिरवी न हों। प्रमोटरों के पास कितनी मात्रा में शेयर हैं केवल इसी से संतुष्ट होना उचित नहीं है यह भी जाँच लें कि, प्रमोटरों के शेयर अधिक मात्रा में किसी बैंक या संस्था के पास गिरवी न हों।

कंपनी के निदेशक मंडल के इतिहास का अध्ययन

किसी भी कंपनी का प्रबंधन कंपनी के निदेशक मंडल (Board of Directors) के हाथों में होता है। कंपनी से सम्बंधित सभी फैसले इसी निदेशक मंडल द्वारा लिये जाते हैं, अतः कंपनी के अच्छे अथवा बुरे भविष्य के लिए भी निदेशक मंडल के सदस्य ही जिम्मेदार होते हैं।

इसलिए निवेशकों के लिए यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि, वे जिस कंपनी में निवेश करना चाहते है उसके निदेशक मंडल के सदस्यों के बारे में आवश्यक जानकारी प्राप्त करें। कंपनी के निदेशक मंडल के सदस्यों के नाम आपको कंपनी की वेबसाइट पर मिल जाएंगे जिन्हें आप गूगल में खोज कर उनके बारे में और अधिक जानकारियाँ जुटा सकते हैं। निदेशक मंडल के सदस्यों की जानकारी के संबंध में निम्न बातों का ध्यान रखें-

  1. यह सुनिश्चित कर लें कि, बोर्ड के सदस्यों पर किसी प्रकार की धोखाधड़ी अथवा कोई ऐसा कोर्ट केस ना चल रहा हो जिससे कंपनी की छवि प्रभावित होती हो।
  2. बोर्ड के सदस्य कंपनी के भविष्य के प्रति चिंतित हों।
  3. बोर्ड के सदस्यों द्वारा पूर्व में लिये गए कुछ बड़े फैसले जिनसे कंपनी में बड़ा बदलाव आया हो।
  4. सदस्यों को दिये जाने वाले वेतन एवं भत्ते कंपनी को होने वाले लाभ की तुलना में बहुत अधिक न हों।

जैसा कि हमने पूर्व में बताया किसी कंपनी के शेयर खरीदने से पहले आपको कई अन्य आंकड़ों का भी अध्ययन करना अति आवश्यक है। किन्तु बुनियादी तौर पर जिन बातों का ध्यान एक निवेशक को रखना चाहिए उन सभी की चर्चा हम इस लेख के माध्यम से कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें : म्यूचुअल फंड क्या हैं तथा इनमें कैसे निवेश करें?

उम्मीद है दोस्तो आपको ये लेख (Share Market Tips for Beginners) पसंद आया होगा टिप्पणी कर अपने सुझाव अवश्य दें। अगर आप भविष्य में ऐसे ही रोचक तथ्यों के बारे में पढ़ते रहना चाहते हैं तो हमें सोशियल मीडिया में फॉलो करें तथा हमारा न्यूज़लैटर सब्सक्राइब करें। तथा इस लेख को सोशियल मीडिया मंचों पर अपने मित्रों, सम्बन्धियों के साथ साझा करना न भूलें।

Recent Articles

ADVERTISEMENT

Also Read This

error: Content is protected !!