Gretex Corporate Services Bonus: एक शेयर पर 8 मुफ़्त शेयर देने जा रही यह मल्टीबैगर कंपनी, जानें कैसे मिलेगा बोनस

फाइनेंशियल सेवाएं देने वाली स्मॉल कैप कंपनी ग्रेटेक्स कॉर्पोरेट सर्विसेस (Gretex Corporate Services Ltd), अपने शेयरधारकों को 8:1 के अनुपात में बोनस शेयर इश्यू करने की तैयारी में है। ग्रेटेक्स कॉर्पोरेट सर्विसेस देश के शीर्ष मर्चेन्ट बैंकर्स में से एक है। मर्चेन्ट बैंकर्स सामान्यतः ऐसे बैंक हैं, जो अलग-अलग कंपनियों को रकम जुटाने, वित्तीय सलाह और ऋण सेवाएं प्रदान करने का काम करते हैं।

देश में मर्चेंट बैंकिंग के कार्य भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) विनियम, 1992 द्वारा शासित होते हैं। इनके मुख्य कार्यों में पोर्टफोलियो प्रबंधन, कंपनियों के लिए विभिन्न माध्यमों जैसे IPO, लोन सिंडिकेशन इत्यादि से रकम इकट्ठा करना, वैल्यूएशन, मर्जर एवं डिमर्जर, राइट इश्यू, कॉर्पोरेट एडवाइस आदि शामिल हैं।

विज्ञापन

ग्रेटेक्स कॉर्पोरेट सर्विसेस (Gretex Corporate Services Ltd) का IPO पिछले साल जुलाई में आया था और कंपनी 9 अगस्त को शेयर बाजार में लिस्ट हुई थी। तब से कंपनी ने अपने निवेशकों का पैसा तीन गुना कर दिया है। वर्तमान में कंपनी के एक शेयर की कीमत तकरीबन 546 रुपये है, जबकि इसका करेंट मार्केट कैपिटलाइजेशन देखें तो यह Rs. 62 करोड़ के करीब है।

कंपनी के बोर्ड की हालिया बैठक में ये शेयरधारकों को 8:1 के अनुपात में बोनस शेयर जारी करने का फैसला लिया गया है, इसका अर्थ हुआ कि, कंपनी शेयरधारकों को प्रत्येक एक शेयर के बदले 8 बोनस शेयर देगी दूसरे शब्दों में यदि आपके पास Gretex Corporate Services Ltd का एक शेयर है तो बोनस इश्यू के बाद आपके डीमैट खाते में कुल 8 + 1 = 9 शेयर हो जाएंगे। कंपनी बोनस इश्यू के लिए 90,98,760 इक्विटी शेयर 10 रुपये प्रति शेयर की कीमत पर जारी करेगी, जिसके लिए कुल 9,09,87,600 रुपयों की आवश्यकता होगी। कंपनी के अनुसार, बोनस शेयरों को 31 अक्टूबर, 2022 तक वितरित कर दिया जाएगा।

विज्ञापन

कैसे मिलेंगे बोनस शेयर?

कंपनी ने नियामक फाइलिंग (Regulatory Filing) में बताया कि, SEBI (Listing Obligations and Disclosure Requirements) 2015, के रेग्युलेशन 42 के अनुसार कंपनी द्वारा मंगलवार 11 अक्टूबर, 2022 को बोनस शेयर इश्यू करने के लिए “रिकॉर्ड तिथि” के रूप में निर्धारित किया गया है। गौरतलब है की, रिकॉर्ड तिथि (Record Date) वह तारीख होती है, जिस दिन बोनस शेयर प्राप्त करने के लिए आपके डीमैट खाते में शेयरों का होना आवश्यक होता है।

भारत में जब भी आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं तो शेयरों की डिलीवरी आपके डीमैट खाते में होने में 2 दिनों (T+2) का समय लगता है, अतः एसे में यदि आप ग्रेटेक्स कॉर्पोरेट सर्विसेस के बोनस शेयरों का लाभ लेना चाहते हैं तो रिकॉर्ड तिथि यानी 11 अक्टूबर 2022 को आपके डीमैट खाते में कंपनी के शेयर उपलब्ध होने चाहिए और इसके लिए आपको कंपनी के शेयरों को 9 अक्टूबर या उससे पहले खरीद लेना होगा।

कंपनी का हालिया प्रदर्शन

इस सप्ताह के पहले दिन BSE पर कंपनी के एक शेयर की कीमत 546 रुपये थी, शेयर ने ट्रेडिंग के पहले दिन ही 5% उछाल के साथ Upper Circuit को टच किया। पिछले एक साल के दौरान कंपनी के शेयरों की कीमत में 163.77 फीसदी तेजी देखने को मिली है। वहीं, साल 2022 में ही अक्टूबर माह तक कंपनी के शेयरों में 162% का उछाल आया है। निवेशकों के लिहाज से देखें तो 6 महीना पहले इस कंपनी के शेयरों में किए गए निवेश पर निवेशकों को 195.14% का बम्पर रिटर्न प्राप्त हुआ है।

लंबी अवधि में बेहतरीन प्रदर्शन करने के साथ ही इसने बीते एक महीने के दौरान भी अच्छा खासा रिटर्न दिया है, इस दौरान कंपनी के शेयरों की कीमतों में 65.88% का उछाल देखने को मिला है। ग्रेटेक्स कॉर्पोरेट सर्विसेस (Gretex Corporate Services Ltd) के शेयर का 52 सप्ताह का उच्चतम स्तर 607 रुपये जबकि 52 सप्ताह का निम्नतम स्तर 160 रुपये रहा है।

बोनस शेयर से आपको क्या फायदा

गौरतलब है की, बोनस शेयर मिलने से आपके द्वारा निवेश किए गए फंड या आपके पोर्टफोलियो पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता, बल्कि यह पहले जितना ही बना रहता है। उदाहरण के तौर पर यदि आपने 549 रुपये के भाव से ग्रेटेक्स कॉर्पोरेट सर्विसेस (Gretex Corporate Services Ltd) के 100 शेयर 54,900 रुपयों में खरीदे हैं, तो 8:1 के अनुपात में बोनस मिलने के बाद भी आपके पोर्टफोलियो की वैल्यू 54,900 रुपये ही रहेगी, जबकि आपके डीमैट खाते में कंपनी के कुल 800 + 100 = 900 शेयर हो जाएंगे और इस प्रकार कंपनी के एक शेयर की कीमत 549 से घटकर 61 रुपये रह जाएगी।

विज्ञापन

ऐसे में यह प्रश्न उठना लाजमी है की, बोनस शेयर मिलने से आपको क्या लाभ होगा? बता दें की, किसी भी कंपनी के शेयर उसके प्रमोटर्स को जिस कीमत में इश्यू होते हैं उसे शेयर की फेस वैल्यू (Face Value) कहा जाता है। यह किसी भी कंपनी के शेयरों की प्रारंभिक कीमत होती है, जिसे कंपनी की शुरुआत के दौरान तय किया जाता है। अधिकतर कंपनियों के शेयर की फेस वैल्यू 1, 5 या 10 रुपये होती है।

जब कोई कंपनी अपने शेयरधारकों को बोनस शेयर इश्यू करती है तो उस कंपनी के शेयर की मार्केट वैल्यू (वह कीमत, जिस पर कोई शेयर बाजार में खरीदा या बेचा जाता है) उसी अनुपात में कम हो जाती है, किन्तु शेयर की फेस वैल्यू पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। उदाहरण के तौर यदि आपके पास 10 रुपये की फेस वैल्यू के 100 शेयर हैं तो बोनस शेयर मिलने के बाद सभी 900 शेयरों की फेस वैल्यू 10 रुपये ही होगी, जबकि प्रत्येक शेयर की मार्केट वैल्यू कम हो जाएगी।

अधिकांश कंपनियां अपने निवेशकों में कंपनी को हुए लाभ का एक हिस्सा लाभांश के तौर पर वितरित करती हैं, जिसे डिविडेंड (Dividend) कहा जाता है, इसकी गणना फेस वैल्यू पर की जाती है, जैसे 10 रुपये प्रति शेयर की फेस वैल्यू वाली कोई कंपनी यदि 50% डिविडेंड देने की घोषणा करती है तो इसका मतलब है कि, कंपनी प्रति शेयर 5 रुपये का डिविडेंड देने वाली है। चूंकि कंपनी का डिविडेंड शेयरों की संख्याओं पर निर्भर करता है अतः बोनस इश्यू का सबसे बड़ा फायदा डिविडेंड में मिलता है।

वहीं इसका एक अन्य फायदा देखें तो जब कंपनी बोनस शेयर इश्यू करती है तब उसकी मार्केट वैल्यू उसी अनुपात में कम हो जाती है, जिसके चलते अधिक लोग उस कंपनी के शेयर खरीदने में सक्षम हो जाते हैं, उदाहरण के तौर पर यदि ग्रेटेक्स कॉर्पोरेट सर्विसेस को ही लें तो 546 रुपये के मुकाबले 60 रुपये में अधिक लोग कंपनी के शेयर खरीद सकेंगे। शेयरों की खरीद बढ़ने से अंततः उसकी कीमतों में वृद्धि होती है और निवेशकों को फायदा होता है।

Recent Articles

ADVERTISEMENT

Also Read This

error: Content is protected !!